सुना है शाम आई ह..

सुना है शाम आई है शमा की याद लाई है हां मैं लौट आऊंगी कसम उसने उठाई है कहा बरसात लाएगी मेरे संग भीग जाएगी न तो स्वयं ही आई न बरसात आई है परिंदे लौट आये है बढ़ रहे शाम के साये द्वार भी खोल आये हम काश इस राह से वो आये शाम…

Read More