कशमकश ज़िन्दगी की

Hindi Poems on active-artists.com कुछ गलतफहमियां, कुछ नादानियां, अनकही कुछ मनगढ़ंत कहानियां, कुछ बेपरवाइयां ,कुछ लापरवाहीयां , कुछ उलझी हुई रुसवाईयां। इन सब को हम ने ही तो जगह दी। दिल दुखाने की एक नई वजह ली। गलती ना तुम्हारी थी ना हमारी, बस कुछ हालात थे और कुछ हकीकत। प्रॉब्लमस हमारी, इश्यूज हमारे, ना…

Read More

सफर- ए – ज़िन्दगी

सफर- ए – ज़िन्दगी क्यों गुमान है तुझे अपने होने पर, क्यों नाज़ है तुझे अपनी शौहरत पर, सांसे बाज़ार में ना बिका करती है। ज़िन्दगी हर पल धोखा देती हैं, अहमियत तो कर्मो से दिखाई पड़ती है। तू हर पल को जीने की ख्वाहिश रख, मानो खुशियों का मेला है जिंदगी, तू छोटी छोटी…

Read More

वो मां ही है…

वो मां ही है वो है तो ज़िन्दगी में खुशियां ही खुशियां है, वो है तो हर जगह उम्मीदों की नई बगिया है। कभी कभी सोचता है ये मन, क्या रहा होगा उसका बचपन? उसकी खववहिशे? उसका मन ? वो भी कभी मासूम हुआ करती होगी , काम को देख कर वो भी जी चुराया…

Read More