Story of A.P.J. Abdul Kalam part : 2

Story of A.P.J. Abdul Kalam The very next day, father of Ramnath called me at his house. I was worried and making speculations about why he would have called me so suddenly. I was numbed to see that strict teacher at my friend’s house. He was apologizing me for his act. My intuitions were not…

Read More

मन से बड़ा बहरूपिया ना कोई..

मन से बड़ा बहरूपिया ना कोई पल-पल रचता स्वांग निराले माया ममता में उलझा रहे वह पड़ जाए जो मन के पाले.. मन के बहकावे में ना आ मन राह भूलआए भ्रम में डालें तो इस मन का दास ना बन इस मन को अपना दास बना ले | ( स्त्रोत: नेशनल टेलीविजन की महाभारत…

Read More

What are you becoming!!

What are you are becoming?You know what you want to become right? But are you really becoming what you want to be? Do you know what you really want to become? This kind of questions to yourself will really make you realize where you stand, where you’re you going and where you really want to…

Read More

नारी ,नारी क्यों नहीं रहना चाहती..

नारी ,नारी क्यों नहीं रहना चाहती.. आजकल एक बड़ी विडंबना सामने आ रही है नई पीढ़ी की युवा लड़कियों की सोच पर। हर लड़की अपने आप को साबित करे वो ठीक, पर प्रतियोगिता करे की वो पुरुष जैसी है वो कहा तक सही। हां,शायद बात अटपटी जरूर लग रही है पर हां खुद की पहचान…

Read More

चरित्र निर्माण या भविष्य ।।

अभी कुछ दिन पहले कुछ घटनाएं ऐसी सुनाई दी जिससे दिल दहल गया स्कूली बच्चे और युवा वर्ग अपराधिक गतिविधियों में संलग्न हो रहे है ।बम बालस्ट हो या कोई और अपराध इं सबमें कुछ बाते समान है जैसे कि इन अपराधियों में अधिकतर शिक्षित और अच्छी वित्तीय स्थिति से है।फिर क्या कारण होते है…

Read More