शाकाहारी बनो…!

गर्व से कह सकती हूँ मैं भीमैं एक शाकाहारी हूँ। नहीं काट खाती उन जिव को,नहीं मारती बेबस प्राणी को। ‘मैं इंसान हूँ, तू जानवर,तुझको मरना ही पडे़गा। मेरी भूख मिटाने के लिए,तुझको कटना ही पडे़गा।’ यही आज कि दुनिया है।भूल गए हैं यह लोग, कि जान उस में भी उतनी है,जितनी एक इंसान में।…

Read More

ये कहानी है  मेरे शहर की …

ये कहानी है मेरे शहर की … मेरे इंदौर की। इसकी उम्र भले ही जयादा हो पर ये अब भी जवान हैं। ये अब भी मेहनत करता हैं खुद को हमेशा की तरह रखने में ये मेहनत करता हैं सबसे आगे रहने के लिए। मेरे शहर से मुझे बहुत कुछ सिखने को मिलता हैं। मेरा…

Read More

इस गुस्से ने मुझे तबाह कर दिया..

छोटी बात थी बस बड़ी बन गई,
ज्यादा नहीं पर गलती हो गलती हो गई,
कोशिस की थी मेने रोकने की,
सोचा था मेने की अपने गुस्से को क़ाबू कर लूंगा,
लेकिन आज फिर न कर सका इसे , गुस्से ने मुझसे सब छीन लिया |

Read More

वो बचपन ही अच्छा था..

वो बचपन ही अच्छा था..
जिसमे छोटी ख़ुशी भी बड़ी बात बन जाती थी,
बचपन की हसी भी किसी किसी के लिए दिन भर की थकान की दवा बन जाती थी.
सपने देखते थे सब बचपन मे लेकिन उन सपनो को खो देने का डर नहीं होता था,
सच्च मे वो बचपन ही अच्छा था|

Read More

बद्लाव होगा मगर कब???

मस्त मस्त चल रही थी पवन, आस-पास हरियाली थी नीला नीला था गगन, अपनी रफ्तार में मगन थे वह घोटक, क्या पता था उन्हें घुमाना होगा ऐसा घातक, एक नन्ही सी थी वो जान, मन में बहुत थे उसके भी अरमान, उसे मालूम भी नहीं होता होता क्या है सम्मान, पर यह समझ रही थी…

Read More