“Starry heavens of childhood, gone”

“Starry heavens of childhood, gone” Sitting on the beach, lost in my own musings of your thoughts, It was going to be just another love poem But the shoreless sea caught my glaze, so here I am. The snowcaps melting, the icebergs floating like wounded shoulders in the battlefield of warming seas. The starless skies…

Read More

Thank You Dear Sweepers..

Thank You Dear Sweepers For keeping country neat and clean You always wake up early in the morning, Just with an idea of sweeping the roads, It is worth admiring.. Thank You Dear Sweepers, For extending your hands towards nation’s growth, You didn’t get ashamed of getting into dirty canals, It is worth applauding.. Thank…

Read More

वो दोस्त..

वो दोस्त,अजब अंदाज अजब सादगी से वो नेकी भी बड़ी खामोशी से करता है मैं उसका दोस्त हु अच्छा ,यही नही काफी उम्मीद ओर भी कुछ दोस्ती से करता है|| जवाब देने को ‘जी’ चाहता नही उसको वो मजाक भी बड़ी अजिज़ी से करता है|| नई नही है ये उसकी आदत पुरानी है शिकायते हो…

Read More

ढुंढता हूं •••••••

आज मन तन्हा है, ढूंढ रहा न जाने किसको भीड़ भरी दुनिया में ,साथ पाया न किसी का उम्र भर का साथ ,बस खोखला ही रह गया तन भर का साथ मन तो अकेला रह गया आज शाखा बड़ी हुई तो पेड़ पीछे छूट गया फूल कोई ले गया, पेड़ अकेला रह गया चाह कर…

Read More