आत्मनिर्भर नारी…

नारी शक्ति को मानव सभ्यता के उद्गम से ही ऊंचा दर्जा दिया जाता है| उन्हें देवियों के रूप में पूज्य मानते हैं| हमेशा से ही नारी पूर्णतया अपने परिवार व समाज को समर्पित जीवन व्यतीत करती आई है हमेशा परिवार व समाज को महत्व देती है शायद इसलिए ही कोमल मानी जाती है|

Read More