Parenting and character building..

We all know that parenting isn’t an easy task, especially when you have no experience about it at all. So, what are the traits of a good parenting? Or what can be taken as a good parenting result? Does this answer only comprises about a child’s grades or is it more than that? Ofcourse it…

Read More

समाज मे संस्कार..

मैं बजार से लौटी तो बड़ी घबराइ हुई थी.. मैने सोचा ना था कि मेरा बेटा विवेक इस तरह किसी बुजुर्ग से बात करेगा.. रास्ते मे विवेक का दोस्त पंकज मिला था जो की उसके दादाजी को अस्पताल ले जा रहा था.. सुना मैने सब्जी खरीदते वक़्त विवेक को.. जो पंकज के दादाजी को कह…

Read More

अल्फ़ाज़

अल्फ़ाज़.. कभी सुनकर सिमट गए, कभी अनकहे ही रह गए कभी चाह कर भी न रुक पाए कभी जज्बो में बह गए दो राहो के मज़धर में कुछ के कुछ हो गए कभी जो कहे न गए वो भी सुने गए जो कह सके कभी वो न सुने गए ये अल्फ़ाज़ के जज़्बात है ‘पलछिन’…

Read More